अगर लगातार हर समय ज्यादा खाने से और आरामपरस्ती के जीवन से हमारा भार बढ़ता
जाता है तो हमारा भार एकदम से कैसे घट सकता है। एक समय का खाना छोड़ने से और 1
घंटा कार्डियो व्ययाम करने से कुछ समय के लिए हम थोडा भार घटा पाते हे और जैसे
ही हम दुसरे समय ज्यदा खाते है ओर आराम करते है तो भार फिर वापिस बड़ जाता है।
जो लोग दिन में 2 बार खाते हे या हल्का सुबह का नाश्ता ले कर बाकि दो बार
ज्यादा खाते व् हमेशा ज्यादा मोटे व् अनफिट होते है।

रोजाना सैर करने वाले, बैडमिंटन खेलने वाले, सुबह कभी कभी दौड़ने वाले और
विभिन्न लौ इंटेंसिटी व्यायाम के साथ साथ ठीक से खाने पर ध्यान न देने वाले
हमेशा मोटे व् दिखने में शेप्ली नहीं होते। अगर पेट बड़ा हे तो बड़ा ही रहता है।
और शारीर की बनावट में कोई खास अंतर नहीं आता। ऐसे व्ययामो में खेल का मज़ा ओर
टाइम पास व् कार्डियो फिटनेस तो अवश्य मिलती हे परंतू मांसपेशिया मजबूत:
ताकतवर व् आकर में बनावट में संतुलित नहीं होती।

अगर आप को लगातार 24 घंटे फालतू भार घटाना है और शारीर को फिटनेस के साथ साथ
बनावट और आकर में सुंदर करना है तो निम्नलिखित फंडे अपनाए।
1. कभी कोई खाना न छोड़े।
2. दिन भर में 6 से 7 बार खाए।
3. सभी खाने सम्पूर्ण तथा संतुलित हो। कार्बस, फैट्स तथा प्रोटीन हर खाने में
होने जरूरी है। हाई कार्बस तथा हाई प्रोटीन जंक फ़ूड होते है। इन दोनों के साथ
फैट का होना अति आवश्यक है।
4. जीव्ह पर मीठे लगने वाले कार्बस न खाए। कॉम्पलेक्स कार्बस ही थोड़े थोड़े
करके ले।
5. हर खाना काफी छोटा यानि की सूखे तोर से 60 से 70 ग्राम से जयदा नहीं होना
चाहिए। इससे आपको एक समय में 200 से 300 कैलोरीज ही मिले गी।
6. दिन भर में कम से कम 3 से 4 लीटर साफ पानी अवश्य पीवे।
7. सप्ताह में 3 या 4 अवश्य जिम जाए बाकि दिन आराम करना चाहिए।
8 जिम में जा कर वेट से व्ययाम करे। व्ययाम औसतन भारी होना से होना
चाहिये।ताकि हर वयायाम के हर बार मुश्किल से 12 से 15 रेप्स ही निकल सके। भारी
किया हुआ वयायाम हमारी मांसपेशियो को थका देता है। वेटट्रेनिंग द्वारा थकी हुई
मास्पेशिआ आराम के समय भी खुराक मांगती रहती है।जबकि लोइंटेन्सटी वाले व्ययाम
से सारी मास्पेशिऑ नहीं शारीर थकता है। अगर हम कम खाए ओर शारीर की मुख्य बड़े
मसल्स की मोडरेट भारी वेटट्रेनिंग करे तो आराम के समय भी हमारी मास्पेशिआ
हमारी फालतू पड़ी चर्बी को प्रयोग में लाये गी।इस प्रकार हम 24 घण्टे
मांसपेशियो को मजबूत बनाते जाये गे ओर फालतू बड़ा हुआ भार कम करते जाऐ गे।

डॉ रणधीर हस्तीर।