जब भी बॉडी बिल्डिंग की बात आती है तो सबसे पहले एक ऐसे आकर्षक व्यक्ति की छवि सामने आती है। अगर किसी व्यक्ति से पूछा जाए कि वह बॉडी बिल्डिंग क्यों करता है। बॉडी बिल्डिंग या वेट ट्रेनिंग का एक उद्देश्य चाहे कुछ भी हो, सबके इस बारे में अपने निजी विचार होंगे। आकर्षक दिखना सबकी पहली प्राथमिकता होती है। हालांकि पुराने समय से यह कहा जाता रहा है कि यदि आप बॉडी बिल्डिंग या कुश्ती जैसे खेल खेलते हैं तो आपको सेक्स नहीं करना चाहिए।इसका कारण यह कहा जाता है कि जब आप इजैक्युलेट करते हैं तो आपकी ताकत कम हो जाती है। अगर आप भी ऐसे ही विचार रखते है तो आप गलत है। कई रिसर्चो में सामने आया है कि सेक्स करने से आपकी ताकत कम नहीं होती और न ही मांसपेशियों की कोई हानि होती है। सेक्स के तुरंत बाद केवल इतना होता है कि बहुत ही कम समय के लिए टी स्तर कम हो जाता है और थोड़ी देर बाद अपने आप ही बढ़ जाता है।आपको मालूम है कि सेक्‍स न सिर्फ एक बेहतर लव सेशन बल्कि इससे मांसपेशियां और मजबूत होती है।
प्राकृतिक तरीके से बॉडीबिल्डिंग से टेस्टोस्टेरोन बढ़ता है मांसपेशियों का बनना और हमारी कामेच्छा दोनों ही पुरुषों के सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन द्वारा निर्धारित होती है। अत: टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन जितना अधिक होगा, कामेच्छा उतनी ही अधिक होगी और आपकी मांसपेशियों भी उतनी अच्छी बनेगी। वेट ट्रेनिंग से टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन बढ़ता है। दूसरी ओर ऐसा व्यक्ति जो यौन रूप से सक्रिय है उसके शरीर में पहले से ही टेस्टोस्टेरोन की पर्याप्त मात्रा होती है। परिणामस्वरूप आप यौन रूप से जितने सक्रिय होंगे, आपकी मांसपेशियां उतनी ही मजबूत बनेंगी। एक रिसर्च के मुताबिक कॉम्पिटिशन से पहले सेक्स करने से खिलाडी की एथलेटिक प्रदर्शन पर या उसकी शारीरिक योग्यताओं पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है | एक सर्वे में यह सामने आया है कि वर्कआउट से पहले सेक्स करने से व्यक्ति अच्छा प्रदर्शन करता है और इसका ताकत या वृद्धि पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता।