वेट लिफ्टिंग मसल्स के लिए ख़ास व्यायाम है ।इससे आपकी मांसपेशियों को मजबूती मिलती है और शरीर को सही आकार भी मिलता है ।वेट लिफ्टिंग कैसी हो , हैवी या लाइट ।जब हम जिम जाते है कई लोग कहते है लाइट वेट से बॉडी ग्रो करेगी या कोई कहता है हैवी वेट से ज्यादा ग्रो होगी बॉडी ।जब आप हैवी वेट का इस्तेमाल कर रहे होते है तो आपके हॉर्मोन्स आपके बॉडी से मसल ग्रोथ और फैट बर्निंग प्रोसैस को तेज़ कर देते है।लाइट वेट मे आप अगर ज्यादा रेप्स लगाते है या हैवि वेट मे कम रेप्स लगाते है तो आपकी मसल्स पर बराबर लोड पड़ता है और आपकी मसल्स स्ट्रेन्थ बराबर बनती है ।

हमारी मसल्स दो प्रकार के मसल्स फाइबर से बानी होती है, एक स्लो ट्विच और फास्ट ट्विच फाइबर ।यह आपकी एक्सरसाइज पर डिपेंड करता है ।अगर आप हैवी वेट मे 10 रेप्स लगा रहे है तो आप फ़ास्ट ट्विच मसल्स फाइबर को हिट कर रहे होते है और जब आप लाइट वेट से 20 रेप्स लगा रहे होते है तो स्लो ट्विच मसल्स फाइबर को हिट कर रहे होते है।

अगर आपको मसल्स का साइज़ इंक्रीज़ करना है तो आप हैवि वेट मे 10 रेप्स लगाए क्योकि यह आपके ग्रोथ हॉर्मोन्स को रिलीस करने मे हेल्प करता है जिससे की आपकी मसल का साइज़ बढ़ता है।साथ आप जंपिंग जैसी एक्सरसाइज भी कर सकते है ।लाइट वेट लिफ्टिंग की तुलना में हेवी वेट लिफ्टिंग करने से अधिक फैट कम किया जा सकता है। जितना भारी वजन आप उठाएंगे उतनी ज्यादा कैलोरी आप कम करेंगे।

जब हम हैवी वेट का इस्तेमाल करके कम समय मे अपनी वर्कआउट को कंप्लीट कर लेते है तो हम अपनी मसल बनाने की प्रोसैस को तेज़ कर देते है तो इसि कारण से हमारे शरीर का मेटाबोलिज्म भी तेज़ हो जाता है। इसी कारण से जब हमारा मेटाबोलिज्म तेज़ होता है तो हमारा फैट बर्निंग प्रोसैस तेज़ हो जाती है।जबकि लाइट वेट लिफ्टिंग अधिक वक्त तक करने से आप तुलनात्मक रूप से कम मसल्स बना पाएंगे।

इसीलिए अब आप पर है की आप हैवी वेट इस्तेमाल करना चाहते है या लाइट वेट। लेकिन क्वांटिटी से अच्छा है की आप अपने एक्सरसाइज़ की क्वालिटी इंक्रीज़ करे। अगर आप बिगिनर है तो आप लाइट वेट का इस्तेमाल कर सकते है लेकिन आपको रेप्स 12 से कम ही रखनी होगी और अगर आप एंड्योरेंस ट्रेनिंग कर रहे है तो आप लाइट वेट का इस्तेमाल कर सकते है और रेप्स 15 से ऊपर रख सकते है।

चाहे आप लाइट वेट लिफ्टिंग करें या फिर हैवी वेट लिफ्टिंग, कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी है। खाली पेट वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज न करें, न ही खाने खाने के तुरंत बाद। एक्सरसाइज के तकरीबन 40 मिनट पहले खाना खा लें। अगर आपको फिर से भूख लगी हो तो दस मिनट पहले हल्का स्नैक ले सकते हैं। इसके अलावा, तुरंत वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज शुरू न कर दें। इससे पहले वॉर्म-अप करना जरूरी है। इससे आपके खून और आपकी मसल्स में अधिक ऑक्सीजन का संचार होने लगेगा। इसके साथ ही, ये आपको वर्काउट के बाद के मांसपेशियों के दर्द से भी बचाता है।