आपके व्यक्तित्व को निखारने में लंबाई की अहम भूमिका होती है। अक्सर ऐसा देखा जाता है जिन लोगों की लंबाई कम होती हैं वे काफी शर्मिंदगी महसूस करते हैं। जिसकी वजह से उनमें आत्म विश्वास की कमी देखी जाती है।हर कोई चाहता है उसकी हाइट लम्बी हो ताकि वो दिखने में अच्छा लगे | एक नया अध्ययन हमें बताता है कि कद का सम्बन्ध केवल शरीर से ही नहीं है अपितु इसका सीधा सम्बन्ध उच्च बौद्धिक स्तर ,नौकरी के बेहतर आयाम और जीवन के प्रति सकारात्मक सोच से भी है। सामान्य से कम लम्बाई होना बहुत से लोगों के लिए समस्या बन जाती है। लोग सोचते हैं कद किशोरावस्था में ही बढ़ता है। लेकिन ऐसा नहीं है 18 की उम्र के बाद भी कद बढ़ाया जा सकता है। आमतौर पर कद 18 साल तक ही बढ़ता है लेकिन आप कुछ खास टिप्स को आजमाकर 25 की उम्र तक कद बढ़ा सकते हैं। इस लेख में दिए गए तरीको और व्यायामों को अपनाने से कद लम्बा करने में मदद मिलेगी| लंबाई कम होने के कारण लंबाई कम होने के कई कारण हो सकते हैं, जिसमें सबसे महत्वपूर्ण रोल आनुवांशिक गुण अदा करते हैं, बच्चों की लम्बाई काफी हद तक उनके माता पिता की लम्बाई पर निर्भर करती है ,लेकिन ये जरूरी नहीं की पेरेंट्स की हाइट लम्बी होगी तो बच्चों की भी उतनी लम्बी होगी | हमारे शरीर में ग्रोथ हार्मोन होते है जिस पर हमारी लम्बाई निर्भर करती है| इसलिए हमे अपनी लम्बाई बढ़ानी है तो ग्रोथ हार्मोन भी बढ़ाने होंगे | हाइट बढ़ाने के उपाय

स्वस्थ और पोषक आहार उचित पौष्टिक तत्वों से भरपूर खाना चाहिए | पौष्टिक भोजन में मौजूद विटामिन, प्रोटीन, कैल्शियम, जिंक, मैग्नीशियम और फास्फोरस लम्बाई बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए स्वस्थ और पोषक आहार लें। और दूध एक ऐसी चीज़ है जिसमे शरीर के विकास के लिए सारे तत्व शामिल होते है | दूध में कैल्शियम होता है ,जो हड्डियों को मजबूत बनाता है | साथ ही प्रोटीन और विटामिन ऐ भी होता है जो लम्बाई बढ़ने में मददगार है | साथ ही बादाम और मूंगफली जैसे नट्स तथा सेब और केले जैसे फल भी आपकी लम्बाई बढ़ाने में मददगार होते हैं। कार्बोनेटेड पेय, संतृप्त वसा और अधिक चीनी लेने से परहेज करें, क्योंकि ये आपकी लम्बाई पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं। ७ से ९ घंटे की नींद भी शरीर क लिए जरुरी है |जब हम सोते है तब भी हमारी हाइट बढ़ने के टिश्यू बढ़ते है | इसलिए लम्बाई बढ़ाने के लिए पर्याप्त मात्रा में नींद लेना भी जरुरी है | हाइट को एक उचित गति में बढ़ाते रहने के लिए ज्यादा वजन न उठाये | खेल कूद में भाग लेना भी जरुरी है | स्विमिंग ,कब्बडी ,टेनिस और भी कई स्पोर्ट्स है जिन्हे खेलने से एक तो शरीर स्वस्थ रहता है दूसरा हमारे शरीर में ग्रोथ हार्मोन एक्टिव होते है ,जिससे रुका हुआ कद बढ़ने में मदद मिलती है |

लम्बाई बढ़ाने के व्यायाम और योग कद लम्बा करने के लिए व्यायाम एक अच्छा विकल्प है | सबसे पहले तो कद लम्बा करने की एक्सरसाइज में आता है दौड़ना| इसके साथ साथ लम्बाई बढ़ाने के लिए कंधो को ऊपर की ओर ले जाए| कुछ देर इसी अवस्था में रुके और फिर कन्धों को नीचे ले आये| इस क्रिया को 5-10 बार दोहराए तथा नियमित रूप से इस व्यायाम को करे| यह व्यायाम लम्बाई बढ़ाने में हमारी मदद करता है| स्ट्रेचिंग करनी चाहिए | हाथों और पैरों के बल पर लटकना चाहिए जिससे हमारा शरीर पूरी तरह से खिचे| लटकने के साथ पुल अप्स भी करे | रस्सी कूदना भी लम्बाई बढ़ाने का आसान उपाय है | तैराकी को लम्बाई बढ़ने का सबसे आसान तरीका माना जाता है|यह अधिक सरल तथा ताजगी भरा व्यायाम है| तैराकी के दौरान शरीर के हिस्सों में खिचाव आता है जिससे लम्बाई बढ़ने में मदद मिलती है| योग से कद बढ़ाना एक अच्छा उपाय है | श्वास की सहायता से,आसनों के माध्यम से शरीर के विभिन्न अंगों में अपना ध्यान ले जाकर इसका अभ्यास किया जाता है। यह खून का दौरा बढ़ाता है, तब शरीर आसानी से वृद्धि हार्मोन पैदा करता है, इस वृद्धि हार्मोन से ही कद बढ़ता है।

ताड़ासन (ट्री पोज़)

height1

ताड़ासन से लंबाई बढ़ाने में मदद मिलती हैं। इसके लिए सबसे पहले जमीन पर कंबल बिछाकर सीधे खडे हो जाएं। अपने दोनों पैर को आपस में मिलाकर और दोनों हथेलियों को अपने बगल में रखें फिर पूरे शरीर को स्थिर रखें और दोनों पैरों पर अपने शरीर को स्थिर रखें और दोनों पैरों पर अपने शरीर को स्थिर रखें और दोनों पैरों पर अपने शरीर का वजन सामान रखें। उसके बाद दोनों हथेलियों की अंगुलियों को मिलाकर सिर के ऊपर ले जाएं। हथेलियों सीधी रखें फिर सांस भरते हुए अपने हाथों को ऊपर की ओर खींचिए, जिससे आपके कंधों और छाती में भी खिचाव आएगा। इसके साथ ही पैरों की एड़ी को भी ऊपर उठाएं और पैरों की अंगुलियों पर शरीर का संतुलन बनाए रखिए। इस स्थिति में कुछ देर रहें। कुछ देर रूकने के बाद संास छोड़ते हुए हाथों को वापस सिर के ऊपर ले आएं। इस आसन को प्रतिदिन 10-12 बार करें।

चक्रासन (लेटकर शरीर को मोड़ना)

height2

चक्रासन फेफड़े और छाती में खिचाव पैदा करता है और साथ ही नितम्बों ,टांगों ,पिण्डलियों ,कलाई ,बांह और रीढ़ की हड्डी की मांसपेशियों को मज़बूत करता है।

हलासन (Halasana)

height3 हलासन को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल जमीन पर सीधे लेट जाएं और अपने पैरों और हिप्स को ऊपर की ओर उठाएं| अब अपने दोनों पैरों से माथे के नीचे की जमीन को छूने की कोशिश करें| इस प्रक्रिया में गहरी सांस लें और पैरों को फिर सांस छोड़ते हुए सीधा करें| धीरे–धीरे पैरों को जमीन पर लाएं और फिर सीधे लेट जाएं| इसका रोजाना अभ्यास आपकी लम्बाई को बढाने में मददगार साबित होगा|

सूर्य नमस्कार (सन सेल्युटेशन)

height4

इसमे कुछ योग के कुछ आसनों को एक क्रमबद्ध तरीके से किया जाता है,जो जोड़ों और मांसपेशियों को ढीला करने में सहायता करते हैं - वह भी बहुत कम समय में। पेट के सभी अंग क्रम से खिंचते और सिकुड़ते रहते हैं। इससे अंगों का संचालन सुचारू रूप से होता है। कमर पर सूर्य नमस्कार का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है क्योंकि यह एक बार पीछे और एक बार आगे झुकने की प्रक्रिया को क्रमिक रूप से अपनाता है। सूर्य नमस्कार रीड की हड्डी के लचीलेपन को भी सुधारता है जिसके फलस्वरूप इम्युनिटी में सुधार आता है।

भुजंगासन (कोबरा पोज़)

height6 यह आसन कन्धों ,छाती और पेट की माँसपेशियों में खिचाव पैदा करता है। इसके द्वारा अंग विन्यास में सुधार होता है ,जिससे कद बढ़ता है। इस लेख में दिए गए उपायों को अपनाने से लम्बाई बढ़ाने में कड़ी मदद मिलेगी| संतुलित एवं पौष्टिक आहार,व्यायाम एवं योग को नियमित रूप से तथा जीवन शैली में सही आदतें अपनाने से हम अपनी हाइट बढ़ा सकते हैं| इस लेख में दिए गए उपायों को अपनाने से लम्बाई बढ़ाने में कड़ी मदद मिलेगी| संतुलित एवं पौष्टिक आहार,व्यायाम एवं योग को नियमित रूप से तथा जीवन शैली में सही आदतें अपनाने से हम अपनी हाइट बढ़ा सकते हैं|