क्या होता है ह्यूमन ग्रोथ हर्मोन जिसे HGH भी कहते है और जानें कि कैसे आप इस शक्तिशाली एनबॉलिक हार्मोन के प्राकृतिक स्तर को अपने शरीर में कुदरती तौर से बढ़ा सकते है | ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन सालो से बॉडी बिल्डरों द्वारा उपयोग किया जा रहा है | युवा शरीर में ग्रोथ हार्मोन का निर्माण बहुत बड़ी मात्रा में होता है और यही ग्रोथ हार्मोन हमे जवान बनाये रखने में अहम भूमिका निभाता है लेकिन जैसे जैसे उम्र बढती जाती है, हमारा शरीर ग्रोथ हार्मोन बनाना कम कर देता है |इतना ही नहीं 30 की उमर के बाद हमारे शरीर की ग्रोथ हार्मोन बनाने की क्षमता हर एक दशक यानि हर दस सालो में 25% तक घट जाती है |यदि ग्रोथ हार्मोन बनाने की क्रिया सारी उम्र एक जैसी बनी रहे तो शायद आम इन्सान की उम्र 150 साल तक होती और कद काठी आज के इन्सान से दोगुनी होती | इसके साथ ही मसल्स का आकर भी काफी बड़ा और भारी भरकम होता ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन के फायदे एचजीएच 20 और 30 की उम्र के बीच पुरुषों के रक्त में किसी भी समय 500 माइक्रोग्राम की दर से शरीर में मौजूद है।हमारे शरीर में इसका निर्माण पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा किया जाता है । इसका हमारे शरीर के सिस्टम पर प्रभाव काफी ज्यादा होता है जो की निम्नलिखित है- 1.ये हमारे शरीर में प्रोटीन संश्लेषण को बढ़ाता है जिसे मांसपेशियों की मरम्मत और निर्माण कार्य तेजी से होता है |2.यह शरीर के मेटाबोलिज्म को बहुत अधिक बढ़ा देता है जिसे शरीर फैट को इंधन के रूप में तेजी से इस्तेमाल करते हुए फैट को जला देता है | साथ ही डाइटिंग के दौरान भी मसल्स को बचाये रखता है | 3.एक्सरसाइज के दौरान शरीर अधिक ऊर्जा की सप्लाई करता है | 4.सेक्स ड्राइव में सुधार होता है | 5.यह हड्डियों को मजबूत बनाता है | 6. दिल और गुर्दे के काम करने की अवधि और गुणवत्ता को बढ़ाता है | जैसा की आप देख सकते है की HGH के अनगिनत फायदे है, कहा जाता है की ये टेस्टोस्टेरोन से कही ज्यादा फायदेमंद है वो भी कम साइड इफेक्ट्स के साथ ,क्योंकि इसके एंड्रोजेनिक प्रभाव नहीं है |यदि इसे टेस्टोस्टेरोन के साथ लिया जाये तो चौंकाने वाले परिणाम मिलेंगे | कैसे बढाया जाये HGH का कुदरती लेवल - 1. व्यायाम का समय – सबसे मुख्य चीज है व्यायाम जो की 45 से 60 मिनट से ज्यादा का ना हो क्योंकि आप के व्यायाम शुरु करने के 30 मिनट बाद आप के शरीर में ग्रोथ हार्मोन बनना शुरु होता है जो की 45 मिनट तक बढ़ता है इसके बाद अगले 15 मिनट यानि की कुल 60 मिनट तक स्थिर रहता है और 60 मिनट के बाद इसका स्तर घटना शुरु हो जाता है इसलिए एक घन्टे से ज्यादा का व्यायाम ना करे |अनुभवी बॉडी बिल्डरो की बात अलग है उनके शरीर को इसकी आदत होती है ,फिर भी वो लोग भी इसे सीमित ही रखते है | 2.अच्छी नींद -आप का शरीर जितना ग्रोथ हार्मोन पुरे दिन में बनाता है उसका 75% निर्माण शरीर सोते समय या कहें की अच्छी नींद के दौरान करता है तो कम से कम 8 से 10 घण्टे की नींद बहुत जरूरी है | 3.सप्लीमेंटस, विटामिन और डाइट -ये सही है की सप्लीमेंट ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन के लिए सबसे जरुरी है लेकिन पहले दिए दो पॉइंट्स जिनमे की व्यायाम और अच्छी नींद की बात की गयी है, इनके बिना सप्लीमेंट्स लेना संभव नही |सबसे बड़ी गलती जो शुरूआती बॉडी बिल्डर करते है वो है डाइट प्लान में फैट से दूरी बना लेना| जबकि आपका शरीर ग्रोथ हार्मोन बनाये इस के लिए जरूरी है की आपकी रोजाना जरूरत की क्लोरी का 20 प्रतिशत भाग प्योर फैट से प्राप्त हो | फैट में मोजूद कोलेस्ट्रॉल का भी हारमोंस निर्माण में मुख्य किरदार होता है | इसके साथ ही एक्सरसाइज के 45 मिनट के अन्दर ही अमीनो एसिड के सेवन से भी ग्रोथ हार्मोन के निर्माण को प्रमोट किया जा सकता है |

नीचे दी गयी अमीनो एसिड्स, विटामिन्स और सप्लीमेंटस की छोटी से खुराक भी ग्रोथ हार्मोन निर्माण में मुख्य योगदान देती है -:

1. Arginine (5-8 g), 2. Ornithine (4-7 g) 3. Glutamine (5 g) 4. Glycine (3-10 g) 5. OKG (3 g 6. CAAs (3-6 g) 7. Lysine 8. Vitamin C 9. Vitamin B3 इन सभी का एक मिश्रण एक्सरसाइज के दौरान लिया जाना चाहिए |इसके अतिरिक्त जिंक,मग्निशीयम,विटामिन E ,सिलेनियम और वे प्रोटीन भी साथ लिए जा सकते है | साथ ही त्रिबुल्स (ब्राण्ड का नाम – हिमलया गोक्सुरा) जो की प्री-हॉर्मोन है को भी इस मामले में काफी लोक प्रिय है | इन सभी का सेवन एक साथ किया जा सकता है | ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन को बाहर से इंजेक्शन के रूप में लेना —- बॉडीबिल्डिंग की दुनिया में इसके फायदों को देखते हुए इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है , लेकिन ये तभी फायदेमंद है जब इसका सेवन अनुभवी डॉक्टर की देख रेख में किया जाए | बॉडीबिल्डिंग की दुनिया में बॉडी बिल्डर 4-8 IU’s रोज की खुराख लेते है |ज्यादातर लोग इस खुराख से काफी अच्छा मसल मास गेन कर लेते है , बाकि कुछ अनुभवी बॉडी बिल्डर इसके रिजल्ट को बढ़ाने के लिए इसके साथ टेस्टोस्टेरोन और T3 भी लेते है ! साधारणतया इसकी साइकिल 5 से 8 हफ्तों की होती है | अनुभवी बॉडीबिल्डरस नीचे दिए गए टेबल के अनुसार इसे लेते है - ==>1 से 4 सप्ताह तक डोज – 4iu’s का इंजेक्शन हर सुबह ==> 5 से 12 सप्ताह तक डोज- 6iu’s का इंजेक्शन हर सुबह ==> हफ्ते 3 से 16 तक डोज- 4iu’s का इंजेक्शन दिन में दो बार कुल 8iu’s कुछ बॉडी बिल्डर अंतिम हफ्तों में सिर्फ 4 दिन ही इंजेक्शन लेते है|

चेतावनी — यहाँ चेतवनी के दो शब्द भी जरूरी है HGH सीधे तौर पर आपके शुगर लेवल को प्रभावित करता है इस लिए यदि आप डायबिटिक है तो लेने से पहले आपने डॉक्टर से सलाह जरुर ले | पोस्ट साइकिल थैरिपी लेनी चाहिए या नहीं — नहीं इसकी साइकिल के बाद आपको पोस्ट साइकिल थैरिपी लेने की जरूरत नहीं होती,हाँ कुछ सप्लीमेंट इस्तेमाल किये जा सकते है | लेकिन चाहे कुछ भी हो हमे इनका इस्तेमाल कतई नहीं करना चाहिए,लम्बे समय में में इनके बड़े घातक परिणाम हो सकते है,साथ ही हम आप को बता दे की हमारे पास किसी भी प्रकार का डॉक्टरी अनुभव नहीं है| हमारा मकसद केवल इसके मौजदा मिसयूज से अवगत करना है |